भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कविता कोश के मानक

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


कोश में योगदान करने वाले सभी व्यक्तियों से विनम्र निवेदन है कि नीचे दिए गए मानकों का पालन करें ताकि हम कविता कोश के मानकीकरण की दिशा में आगे बढ़ सकें।

रचनाकारों के सम्पर्क सूत्र

कविता कोश में रचनाकारों के सम्पर्क सूत्र (जैसे कि घर का पता, ऑफ़िस का पता, टेलिफ़ोन नम्बर, मोबाइल नम्बर, ईमेल आई.डी. इत्यादि) कहीं भी नहीं दिए जाएंगे। रचनाकारों के परिचय पन्नों पर भी यह जानकारी उपलब्ध नहीं कराई जाएगी।

यदि आप इस तरह की कोई भी जानकारी कोश में पाते हैं तो उसे हटा दें।

यदि रचनाकार स्वयं अपने सम्पर्क सूत्र कविता कोश में रखना चाहते हैं तो भी हम ऐसा नहीं करेंगे। यह नियम सभी रचनाकारों पर समान रूप से लागू होगा।

कविता कोश में कुछ मानक शब्द

इन शब्दों को उसी प्रकार लिखा जाना चाहिए जैसा कि नीचे दिया गया है:

  • काव्य विधाएँ
    • ग़ज़ल (ग और ज के नीचे नुक्ता होना चाहिए)
    • नज़्म (आधे ज के नीचे नुक्ता होना चाहिए)
    • नवगीत (नव और गीत के बीच कोई स्पेस नहीं है)
  • भारत के राज्य
    • उत्तर प्रदेश (बीच में स्पेस ज़रूरी है)
    • मध्य प्रदेश (बीच में स्पेस ज़रूरी है)
    • हिमाचल प्रदेश (बीच में स्पेस ज़रूरी है)
    • उत्तराखंड
    • छत्तीसगढ़ (ढ के नीचे बिन्दी ज़रूरी है)
    • बिहार
    • राजस्थान
  • महीनों के नाम
    • जनवरी
    • फ़रवरी (फ के नीचे नुक्ता होना चाहिए)
    • मार्च
    • अप्रैल (एप्रिल नहीं)
    • मई
    • जून
    • जुलाई
    • अगस्त (अगस्ट या ऑगस्ट नहीं)
    • सितम्बर (सितंबर नहीं)
    • अक्तूबर (अक्टूबर नहीं)
    • नवम्बर (नवंबर नहीं)
    • दिसम्बर (दिसंबर नहीं)
  • दिनों के नाम
    • सोमवार
    • मंगलवार
    • बुधवार
    • गुरुवार (वैसे बृहस्पतिवार भी ठीक है लेकिन चूंकि कोई एक मानक चाहिए इसलिए सरल शब्द को चुना जा रहा है)
    • शुक्रवार
    • शनिवार
    • रविवार


जन्मतिथि व पुण्यतिथि

कविता कोश में तिथियाँ (जैसे कि जन्मतिथि व पुण्यतिथि) लिखते समय निम्नलिखित बातों का ध्यान रखें:

  • तिथि का फ़ॉर्मेट 05 जुलाई 2006 जैसा होना चाहिए
    • पहले दो अंको का दिन (यदि संख्या दस से कम है तो आगे शून्य लगाएँ, जैसे कि 04)
    • फिर देवनागरी में महीने का नाम (महीने के नामों की वर्तनियाँ, spellings, इसी पन्नें पर दी गई है, कृपया देख लें)
    • अंत में चार अंको का वर्ष
  • अंक रोमन लिपि में लिखे जाने चाहिए (१, २, ३ की जगह 1, 2, 3)

{{KKParichay}} टेम्प्लेट में जन्मतिथि व पुण्यतिथि का बिल्कुल उसी तरह से दिया जाना अति-आवश्यक है जैसा कि ऊपर बताया गया है। ऐसा इसलिए है क्योंकि कम्प्यूटर आपके द्वारा दी गई जन्मतिथि व पुण्यतिथि से अपने आप वर्ष और तिथि को निकाल कर उस पन्नें को वही श्रेणी देता है। यदि आप जन्मतिथि व पुण्यतिथि एकदम सटीक नहीं देंगे तो कम्प्यूटर भ्रमित हो जाएगा और पन्नें श्रेणियाँ नहीं मिल पाएँगी।

तिथियों के ग़लत उदाहरण

  • ०६ जुलाई २००६ (कारण: अंक रोमन में होने चाहिए)
  • 06 सितंबर 2006 (कारण: सितम्बर लिखा जाना चाहिए। इसी पन्नें पर सही वर्तनी की सूची दी गई है।)
  • 06 जुलाई2006 (कारण: जुलाई और 2006 के बीच स्पेस नहीं है)
  • 6 जुलाई 2006 (कारण: दिन दो अंको में होना चाहिए। अर्थात 6 की जगह 06 लिखा जाना चाहिए)
  • 06 जुलाई 2006 ई (कारण: "ई", "ई.पू.", "ईस्वीं" जैसे शब्द नहीं लिखने हैं)

कई बार सही तिथि ज्ञात नहीं होती और, उदाहरण के लिए, सिर्फ़ इतना पता होता है कि रचनाकार का जन्म/निधन 1906 में होली के दिन हुआ था। ऐसी स्थिति में जैसी जानकारी उपलब्ध है आप उसे वैसे ही लिख सकते हैं। लेकिन सही तिथि पता होने पर तिथि को ऊपर लिखे तरीके से ही लिखा जाना चाहिए।


चित्र जोड़ने के बारे में

गूगल सर्च की दृष्टि से यह अति-अति-आवश्यक है कि अपलोड की जाने वाली फ़ाइलों के नाम अंग्रेज़ी में लिखे जाएँ। फ़ाइलों के नाम कैसे दिए जाएँ इस संबंध में नीचे दी गई सूचना का अक्षरश: पालन किया जाना चाहिए। गूगल सर्च में कोश की स्थिति के लिए यह अति-आवश्यक है।

चित्र की एडिटिंग

किसी भी चित्र को अपलोड करने से पहले उसे edit कर लें। इसके लिए आपको Photoshop की बेसिक जानकारी की आवश्यकता पड़ेगी:

  • चित्र में मुख्यत: रचनाकार का चेहरा दिखना चाहिए और स्पष्ट दिखना चाहिए। बाकि हिस्से को आप crop कर दीजिए।
  • चित्र का आकार portrait होना चाहिए (यानी ऊँचाई अधिक और चौड़ाई कम)
  • चित्र की चौड़ाई 300px के आस-पास होनी चाहिए।
  • फ़ाइल 100 KB से अधिक नहीं होनी चाहिए।
  • यदि आपको edit करना नहीं आता तो कृपया चित्र अपलोड ना करें। पहले प्रक्रिया सीखें और फिर चित्रों को अपलोड करें।

चित्रों का नाम

  • चित्र की फ़ाइल का नाम अंग्रेज़ी अक्षरों में दिया जाना चाहिए।
  • चित्र की फ़ाइल के नाम में आने वाले शब्दों को डैश ( - ) से अलग करें। अंडरस्कोर ( _ ) का प्रयोग किया जा सकता है लेकिन इससे बचें और डैश को प्राथमिकता दें।
  • चित्र की फ़ाइल का नाम ऐसा होना चाहिए जिससे उस फ़ाइल को पहचाना जा सके। उदाहरण के लिए यदि चित्र एक कविता संग्रह “चलो दिलदार चलो” के कवर का है, तो:
    • खराब फ़ाइल नामों के उदाहरण
      • chalo.jpg
      • dildar.jpg
      • chalodildaarchalo.jpg
    • अच्छे फ़ाइल नाम का उदाहरण
      • chalo-dildaar-chalo-book-cover.jpg
  • पुस्तक का कवर: यदि फ़ाइल का नाम अधिक लम्बा न हो रहा हो तो पुस्तक के नाम के साथ रचनाकार का नाम भी दें। उदाहरण:
    • chalo-dildaar-chalo-jalaj-mathur.jpg
  • रचनाकार का चित्र: यदि फ़ाइल का नाम अधिक लम्बा न हो रहा हो तो रचनाकार के नाम के साथ "-kavitakosh" भी जोड़ दें। उदाहरण:
    • jalaj-mathur-kavitakosh.jpg
  • चित्र का नाम रखते समय मानक नाम का प्रयोग किया जाना चाहिए। यदि किसी कवि का पेज अंग्रेज़ी विकिपीडिया में है तो अंग्रेज़ी विकिपीडिया में दिया गया नाम प्रयोग करें। यदि अंग्रेज़ी विकिपीडिया में पन्ना नहीं है तो गूगल पर कवि के नाम की अलग-अलग वर्तनियों को सर्च करें और नतीजों से यह तय करें कि कौन-सी वर्तनी अधिक मानक प्रतीत होती है।


सामग्री जोड़ने के लिए

रचना संग्रह के लिए

* '''[[संग्रह का नाम / रचनाकार का नाम]]''' (कविता संग्रह)
* '''[[संग्रह का नाम / रचनाकार का नाम]]''' (ग़ज़ल संग्रह)
* '''[[संग्रह का नाम / रचनाकार का नाम]]''' (नज़्म संग्रह)
* '''[[संग्रह का नाम / रचनाकार का नाम]]''' (हाइकु संग्रह)
* '''[[संग्रह का नाम / रचनाकार का नाम]]''' (गीत संग्रह)
* '''[[संग्रह का नाम / रचनाकार का नाम]]''' (नवगीत संग्रह)

संग्रह की शैली मिश्रित होने या बिल्कुल ज्ञात ना होने की स्थिति में ब्रैकेट () में कुछ ना लिखा जाए। ब्रैकेट भी नहीं लगाए जाने चाहिए।

किसी के द्वारा संपादित रचना संग्रह

* '''[[संग्रह का नाम / संपादक का नाम]]''' (संपादन)


छोटी रचनाओं को जोड़ना

छोटी रचनाएँ (जैसे कि हाइकु और दोहे इत्यादि) जोड़ते समय कोशिश करें कि एक पन्नें पर कम-से-कम काव्य की 10 पंक्तियाँ हों। मोटे तौर पर एक पन्नें में पाँच दोहे या हाइकु आने चाहिए। हाइकु के 17 अक्षर और दोहे की दो पंक्तियों के लिए अलग से पन्ना बनाना उचित नहीं है।

संपादित हाइकु संग्रह (यानि एक व्यक्ति द्वारा अलग-अलग लेखकों के हाइकु को एक ही पुस्तक में प्रकाशित करना): ऐसे संग्रहों को अभी कविता कोश में शामिल नहीं किया जा सकता। इस तरह के संग्रहों के ज़रिए रचना की गुणवत्ता का मूल्यांकन कविता कोश टीम के हाथ से निकलकर संग्रह के संपादक के हाथ में आ जाता है। यह फ़िलहाल मान्य नहीं है।


चित्रात्मक रचनाओं को जोड़ना

फ़िलहाल कविता कोश चित्रात्मक रचनाओं (जैसे कि हाइगा या चित्र पर लिखे शे’र और ग़ज़ल) इत्यादि का संकलन नहीं करता। ऐसा कोई चित्र केवल बहुत ज़रूरत होने और संदर्भ द्वारा ज़रूरत प्रमाणित होने पर ही जोड़ा जाना चाहिए।


संपादित रचना संग्रह

आजकल हिन्दी साहित्य के क्षेत्र में संपादित रचना संग्रहों के प्रकाशन का चलन बहुत बढ़ गया है। ये ऐसी किताबें होती हैं जिनमें कई रचनाकारों की रचनाएँ छपती हैं और पुस्तक के ऊपर संपादक के रूप में किसी एक व्यक्ति का नाम होता है। जब तक ऐसी किसी पुस्तक का कोई ऐतिहासिक महत्व ना हो –या कविता कोश टीम किसी ऐसी पुस्तक के संकलन को अनुमति ना दे दे –तब तक ऐसी पुस्तकों का संग्रह कविता कोश में नहीं किया जा सकता।

इस तरह की पुस्तकें कविता कोश की गुणवत्ता को प्रभावित कर सकती हैं –क्योंकि इससे रचना और रचनाकारों के कोश से जुड़ने संबंधित निर्णय कविता कोश टीम के हाथ से निकल कर पुस्तक के संपादक के हाथों में चला जाता है।

ऐतिहासिक महत्व से हमारा आशय, उदाहरण के लिए, अज्ञेय द्वारा संपादित तार सप्तक से है। तार सप्तक जैसी ऐतिहासिक महत्त्व की पुस्तकों का संकलन ज़रूर किया जाना चाहिए।


साँचे और विभाग

कविता कोश में नए साँचे/विभाग बनाने या पहले से मौजूद साँचों/विभागों में बदलाव का अधिकार केवल ललित कुमार के पास है। अन्य योगदानकर्ता कृपया अपनी इच्छानुसार ना तो साँचे/विभाग बनाए और ना ही उनके ढांचे में कोई बदलाव करें।

यदि आप किसी नए साँचे/विभाग के निर्माण का सुझाव देना चाहते हैं या किसी बदलाव की बाबत सुझाव देना चाहते हैं –तो आप अपने सुझाव ललित कुमार को भेज सकते हैं।

अनूदित रचनाओं के लिंक

अनूदित रचनाओं के लिंक बनाते समय निम्नलिखित तरीके का पालन किया जाना चाहिए:

[[रचना का शीर्षक / मूल रचनाकार का नाम / अनुवादक का नाम]]

अन्य सभी मानकों की तरह इस फ़ॉर्मेट का भी नियम से पालन होना चाहिए। अनुवादक का नाम पहले देने से कम्प्यूटर भ्रम में पड़ सकता है और अनुवादक को मूल रचनाकार व मूल रचनाकार को अनुवादक मान सकता है। ऐसी त्रुटियों से बचने के लिए फ़ॉर्मेट का अक्षरश: पालन करें।