भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कविता खोले किवाड़ / राजेश कुमार व्यास

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अंधारै मांय
हाका करती
धमकावती आवै पून
चमके बैरण बीजळी
अर
धोरा उडावती
उपड़े है आंधी
बिण बादळ
बरसै मेह
उंडी आस
हियै री अकड़ सूं चालै सांस
साचाणी
अबखौ है मारग
म्हूं
धमीड़ा खावूं...
सिरजूं आखै जग री पीड़
कविता
खोले
आस रा किवाड़
अबखै बगत।