भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कविता : दो / श्याम महर्षि

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कविता आग नहीं है
जिस से लोग
सेक सकें रोटी
और नहीं है वह कोई वस्त्र
कि जिस से
किसी का नंगापन ढक जाए
कविता औरतों के गीत भी नहीं
जो कि गली गली में गाए जा सके ।

कविता मेरे भीतर के
आदमी की जुबान है
और है मेरे मन की पुकार
कविता अब करायेगी पहचान
भूख और रोटी की
कविता तो बस छाया है कवि की ।

अनुवाद : नीरज दइया