भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कश्मीर-पांच / राजेश कुमार व्यास

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

दूर,
पहाड़ों में
खो गया है
कहीं सूरज।
नहीं झकझोरती अब
बर्फीली हवाएं।
उदास है चीड़,
उदास है डल,
और
इन सबसे
उदास है मन।