भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कहता हूँ अलविदा / असंगघोष

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हाँ मेरे
हर सवाल का
जवाब होता है
तुम्हारे पास
और कुछ के जवाब
तुम हर बार की तरह
टाल जाते हो
वहीं कुछ का जवाब
समय पर छोड़ देने की
तुम्हारी
आदत है पुरानी
तुम्हारे
इस समय की
कोई सीमा भी नहीं
कहते हो
”भला इस समय को
सीमा में बाँध
शूद्र
कभी
दे सकता है चुनौती?“
लेकिन

अब नहीं
अब मेरा कोई
सवाल नहीं
सारे सवालों के
तुम्हारे सबके सब जवाब
जानता हूँ मैं
बस तुम तैयार रहो
आज से
तुम्हारे हर जवाब को
कहता हूँ मैं अलविदा!
और छोड़ता हूँ
हर सवाल को
आने वाले कल के लिए
जो दे सकेगा
जवाब
कमजकम तुम्हारी तरह तो नहीं।