भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कहमां बहै मैया कमलेश्वरी / अंगिका

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

कहमां बहै मैया कमलेश्वरी,
कहमां बहै माता कोसिका ।
अलापूर बहै माता कमलेश्वरी,
तिरहुत बहै माता कोसिका ।
दया करू माया करू
कोसिका माय, चंडालिनी
नगरक लोग करै छै किलोल ।।