भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कहमा उपजल झालर गुअवा / अंगिका

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

कहमा उपजल झालर गुअवा,
कहमा डाटरि पान
इहो पान खैता रानू सरदार
रंगौता बतीसो मुख दाँत
सातो बहिन मंे कोसिका दुलारि छलै
तकरे से रंगाबै रानू दाँत
देखहो-देखहो आहे पिया
दाँत केर जोतिया
देखे देहो अपनी सुरतिया
अखनी ने देखे देबौ सुरतिया
घर में छै माय हे बहिन
जखनी जे देखे देबौ
दाँत केर जोतिया
तोहरा से होइतै पिरीत ।