भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कहमा लहैले कोसी माय / अंगिका

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

कहमा लहैले कोसी माय
कहाँ लट झारले गे
कहमा कइले सिंगार
सैरा नहेलों सेवक हो
बाटे लट झारलौं
गहबर कइलों सोलहो सिंगार
कथी बिनु आहे कोसिका
मुहँमां मलिन भेलौ
कथी बिनु डोलै हे सरीर
पान बिनु आहो सेवक
मुँहमां मलिन भेलै
लडु ले डोलैयै सरीर
चढ़इबौ गे कोसी माय
खीर पान भोजन
पाठी देबौ कोसी माय चढ़ाय
गावल सेवक जन दुहु कल जोड़ि
बिपति के बेरी मैया कोसिका
होखु ने सहाय ।