भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कहाँ रे हरदी, कहाँ रे हरदी / छत्तीसगढ़ी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

कहाँ रे हरदी, कहाँ रे हरदी
भई तोर जनामन, भई तोर जनामन

कहाँ रे लिए अवतार
मरार बारी, मरार बारी
दीदी मोर जनामन, दीदी मोर जनामन
बनिया दुकाने दीदी लिएँव अवतार

कहाँ रे पर्रा, कहाँ रे पर्रा
भई तोर जनामन, भई तोर जनामन

कहाँ रे पर्रा तैं लिए अवतार
सिया पहार ऐ, सिया पहार ऐ
दीदी मोर जनामन, दीदी मोर जनामन
कँड़रा के घरे मैं लिएँव अवतार