भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कहाँ वो बरसातें / विकि आर्य

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कहाँ वो बरसाते कि जब खुद भीग कर
कमीज़ों में किताबें बचाते थे बच्चे

वो टॉफी की पन्नी जो बनती तितलियाँ
किताबों में फूल खिलाते थे बच्चे

ऊँचे उड़ लेता था पुरानी कॉपी का कागज़
कभी कश्ती उस से बनाते थे बच्चे़

रख के किताबों में एक पंख मोर का
ख़्यालों को कई रंग देते थे बच्चे़