भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  रंगोली
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

कहाँ सी मेहंदी ऊबजी कहाँ लियो अवतार / पँवारी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पँवारी लोकगीत   ♦   रचनाकार: अज्ञात

कहाँ सी मेहंदी ऊबजी कहाँ लियो अवतार
मेहंदी राछड़ी मोरे लाल।
सरग सी मेहंदी ऊबजी, धरती लियो अवतार
मेहंदी राछड़ी मोरे लाल।
सावन महिना मेहंदी को, गोरी खुड्या एक-एक पान
मेहंदी राछड़ी मोरे लाल।
खुड़ी-खुड़ाई डल्ला भरी, धरऽ दी ओसारी माँझ
मेहंदी राछड़ी मोरे लाल।
कहाँ सी लाऊँ सिल-ओ सिलौटा, कहाँ से लाऊँ दुई बाँट
मेहंदी राछड़ी मोरे लाल।
गंगा सी लाऊँ, सिल ओ-सिलौटा, जमुना से लाऊँ दुई बाँट
मेहंदी राछड़ी मोरे लाल।
खसमस मेहंदी बाटन्ती, नथनी तो झोला खाय
मेहंदी राछड़ी मोरे लाल।
बटी-बटायी बाटका भरी, धरअ् दी कोठी का माँझ
मेहंदी राछड़ी मोरे लाल।
दिवर्या लगाये चिली- अँगठी, भौजी लगाये दुई हाथ
मेहंदी राछड़ी मोरे लाल।
दिवर्या बताये अपनी माय सी, भौजी कोहे बताय
मेहंदी राछड़ी मोरे लाल।