भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  रंगोली
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

कहाँ सी लाऊँ डाण्डी व डोरी / पँवारी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पँवारी लोकगीत   ♦   रचनाकार: अज्ञात

कहाँ सी लाऊँ डाण्डी व डोरी,
कहाँ सी लाऊँ दोऊ खम्ब राजली,
रामजी खेले बन भोगे।
कजली-बन सी लाहूँ, डांडी व डोरी,
बिन्द्रावन सी लाहूँ दोऊ खम्ब राजली,
रामजी खेले बन भोगे।
कोकी ते झूल्हे बहू व बेटी,
कोकी झूल्हे बिरजा नार-राजली,
रामजी खेले बन भोगे।
रामऽ की झूल्हे बिरजा नार-राजली,
रामजी खेले बन भोगे।