भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  रंगोली
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

कहाँ हैं दलित लेखक / एन. मनोहर प्रसाद

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

दलित बुद्धिजीवी?
हम उन्हें पहचान नहीं सकते
न ही दे पाते उन्हें सम्मान
हम भोग रहे दासत्व
मुद्दतों से रहते आ रहे ग़ुलाम
कि हम सब सत्ताधीशों से ही हैं डरते
और सम्मान भी उन्हीं का करते
कि वैभव के तमाशे और नंगी सत्ता को ही
हम पूजते— उनके ही आज्ञाकारी होते—
हम होते हैं प्रभावित
तुच्छ आकांक्षाओं और रोटी के चन्द टुकड़ों से
क्षुद्र उपहारों या कलदारों (पैसों) —
और चुटकी भर लाभों से!