भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कहां धुआं है कहां आग / प्रताप सोमवंशी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कहां धुआं है कहां आग जान ले तो सही
फिर उसके बाद ही मेरे बयान ले तो सही

वो चाहता है कि मैं उसको मान लूं तो सही
मैं कह रहा हूं कि तू मुझको जान ले तो सही

तू मुझसे रूठ गया है तो बात मत कर ना
जो पान लाया हूं लाले की जान ले तो सही

हर एक बार ज्यादा ही खरा उतरूंगा
तू बार-बार मेरा इम्तहान ले तो सही

आसमां, धूप, छांव और बहुत चीजे हैं
तू अपने पंख से पहली उड़ान ले तो सही