भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कहीं तो लेने दो विश्राम! / रामेश्वरलाल खंडेलवाल 'तरुण'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कहीं तो लेने दो विश्राम!
आँधी के उठ रहे बगूले, बड़ी कड़ी है घाम!
कहीं तो लेने दो विश्राम!

इस धरती पर सरस सलोना,
एक चाहिए कोमल कोना-
थकी पाँख ले जिधर उड़ सकूँ-जब हो जावे शाम!
कहीं तो लेने दो विश्राम!

दौड़ाओ मत जंगल-जंगल,
दौड़ाओ मत सिन्धु-मरुस्थल,
दौड़ाओ मत नगर-नगर नित, और ग्राम से ग्राम!
कहीं तो लेने दो विश्राम!

नहीं चाहिए घर कंचन के,
नील कमल नव नंदन वन के,
नहीं चाहिए-दूर कल्पना में बसते सुर-धाम!
कहीं तो लेने दो विश्राम!

मधुर जहाँ की चिकनी छाया-
सहला दे रे, दुखती काया!
कटें उसी विश्वास-कंुज में, जीवन के दो याम!
कहीं तो लेने दो विश्राम!