भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कहें किस से हमारा / 'अख्तर' सईद खान

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कहें किस से हमारा खो गया क्या
किसी को क्या के हम को हो गया क्या

खुली आँखों नज़र आता नहीं कुछ
हर इक से पूछता हूँ वो गया क्या

मुझे हर बात पर झुटला रही है
ये तुझ बिन ज़िंदगी को हो गया क्या

उदासी राह की कुछ कह रही है
मुसाफ़िर रास्ते में खो गया क्या

ये बस्ती इस क़दर सुनसान कब थी
दिल-ए-शोरीदा थक कर सो गया क्या

चमन-आराई थी जिस गुल का शेवा
मेरी राहों में काँटे बो गया क्या.