भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

कहे कौन उठ दोपहर हो गई / 'सज्जन' धर्मेन्द्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कहे कौन उठ दोपहर हो गई।
जगा सूर्य जब भी सहर हो गई।

लगा वक्त इतना उन्हें राह में,
दवा आते आते ज़हर हो गई।

बँधी एक चंचल नदी प्यार में,
तो वो सीधी सादी नहर हो गई।

समंदर के दिल ने सहा ज़लज़ला,
तटों पर सुनामी कहर हो गई।

सियासत कबूली जो मज़लूम ने,
तो रोटी लँगोटी महर हो गई।