भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

क़तारें / मनोज चौहान

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

{{KKRachna | रचनाकार=

हर रोज ही ,
अस्पताल में लगी ,
वह लम्बी कतारें ,
कुछ बूढ़े,
मगर बीमार चेहरे ,
खड़े रहते हैं ,
थामे हुए पर्ची,
लाठी के सहारे l

डॉक्टर साहब,
जब भी आते हैं,
ब्रेक के बाद,
चाहे वो,
टी ब्रेक हो ,
या फिर लंच ब्रेक,
तो बुलाते हैं पहले,
जान – पहचान वालों को l

पूछते है उनका,
हाल – चाल,
लिखते हैं,
उनकी दवा – दारू l

और जब निढाल,
हो जाता है,
वह बूढा शरीर,
तो बैठ जाते हैं,
वहीँ पर ,
लम्बी कतार के बीच l

वक्त का विस्तृत ,
अनुभव संजोये ,
झांकती है अस्थियां,
कमजोर देह के,
भीतर से l

और फिर छुट्टी,
होने पर ,
डॉक्टर साहब,
उठ जाते हैं सीट से l

लौट जाता है वह ,
बूढा शरीर,
वापिस,
घर की ओर l

और अगले दिन ,
बन जाता है हिस्सा ,
फिर एक बार,
उसी कतार का l