भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

क़ब्र पर इंसानियत की आशियाने हो गए / समीर परिमल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

क़ब्र पर इंसानियत की आशियाने हो गए
लोग छोटे हो गए, ऊँचे घराने हो गए

मर चुके थे यूँ तो हम इक बेरुख़ी से आपकी
ज़लज़ले, सैलाब और तूफ़ां बहाने हो गए

चल झटक दे जह्न से अब शायरी का ये जुनूँ
देख दिलवाले भी अब कितने सयाने हो गए

मुद्दतों पहले लगाया था इसे दीवार पर
आईना वो ही रहा पर हम पुराने हो गए

आसमां मुट्ठी में बस आने ही वाला था मगर
चंद अपनों की सियासत के निशाने हो गए