भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

क़िन्दील-ए-मह-ओ-महर का अफ़्लाक पे होना / सरवत हुसैन

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

क़िन्दील-ए-मह-ओ-महर का अफ़्लाक पे होना
कुछ इस से ज़ियादा है मिरा ख़ाक पे होना

हर सुब्ह निकलना किसी दीवार-ए-तरब से
हर शाम किसी मंज़िल-ए-ग़मनाक पे होना

या एक सितारे का गुज़रना किसी दर से
या एक प्याले का किसी चाक पे होना

लौ देती है तस्वीर निहाँ-ख़ाना-ए-दिल में
लाज़िम नहीं इस फूल का पोशाक पे होना

ले आएगा इक रोज़ गुल-ओ-बर्ग भी ‘सरवत’
बाराँ का मुसलसल ख़स-ओ-ख़ाशाक पे होना