भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

क़ैदी का ख़त / समीह अल कासिम /अनिल जनविजय

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

माँ !
मुझे दुख हुआ, माँ !
कि तुम फूट-फूट कर रोईं
जब दोस्तों ने
मेरे बारे में पूछा

          पर मुझे विश्वास है, माँ !
          कि जीवन का गौरव
          मुझे जेल ने ही दिया

और मुझे विश्वास है
मेरा अन्तिम मुलाक़ाती
नहीं होगा
एक अन्धा चमगादड़
वह भोर होगी
वह दिवालोक होगा

अँग्रेज़ी से अनुवाद : अनिल जनविजय