भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

काँच की उतारै चुरी कंचन की धारै प्रेम / रामजी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

काँच की उतारै चुरी कंचन की धारै प्रेम ,
और सोँ पसारै दिया बारै चारि बाती को ।
अँजन लगावै उपपति को बुलावै सैन ,
रूप दरसावै जैसे महामदमाती को ।
रामकवि नारिन मे बैठि के किलोलैँ करै ,
सब ही सोँ बोलै लाज खोलै ठोँकि छाती को ।
खाय खोवा खाँड रहै सब ही सोँ चाँड़ ,
सदा कहिबे को राँड़ कान काटै अहिबाती को ।


रामजी का यह दुर्लभ छन्द श्री राजुल मेहरोत्रा के संग्रह से उपलब्ध हुआ है।