भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

काँव...काँव / रमेश तैलंग

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

भोर से जगाने लगे काँव...काँव!
काँव...काँव गाने लगे काँव...काँव!

काले हैं, कलूटे हैं ये
रंग में न गोरे,
पर हैं ये अपने ही-
गाँव पले छोरे,
चिल्लपों मचाने लगे काँव...काँव।
काँव...काँव गाने लगे काँव...काँव!

वैसे तो है पेड़ों पर ही
इनका बसेरा,
बिजली के तारों पर हैं
डाले अभी डेरा,
चोंच, लो, उड़ाने लगे काँव...काँव।
काँव...काँव गाने लगे काँव...काँव!

सुनते हैं कोयलिया के
हैं ये सगे भाई,
पर न सुरीली बोली
इन्हें मिल पाई,
अंट-शंट खाने लगे काँव...काँव!
काँव...काँव गाने लगे काँव...काँव!