भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कांपि-कांपि उठत करेजौ कर चांपि-चांपि / जगन्नाथदास ’रत्नाकर’

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कांपि-कांपि उठत करेजौ कर चांपि-चांपि
उर ब्रजवासिनि के ठिठुर ठनी रहै ।
कहै रतनाकर न जीवन सुहात रंच
पाला की पटास परी आसनि घनी रहै ॥
वारिनि में बिसद बिकास न प्रकास करै
अलिनि बिलास में उदासता सनी रहै ।
माधव के आवन की आवतिं न बातैं नैकु
नित प्रति तातैं ऋतु सिसिर बनी रहै ॥92॥