भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  रंगोली
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

कागको कपूर अवरो मर्कट को भूषण जइसे / महेन्द्र मिश्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कागको कपूर अवरो मर्कट को भूषण जइसे
बहिरे को गीत जइसे गूंगे को फारसी।
मूरख को प्यार और कुबड़े को हार जइसे
हिजड़े को नार जइसे लागत अंगार सी।
काफिर को मक्का जइसे बंदर को हुक्का
जइसे पापिन को धर्म जइसे अंधे केा आरसी।
द्विज महेन्द्र कादर को समर की तैयारी
ओइसे दुष्ट आगे रामनाम लागत अंगार सी।