भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कागद रै खेत / हनुमान प्रसाद बिरकाळी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

खेत बिकग्या
इण रै ताण
जूण रा
अबखा दिन
कीं धिकग्या
अब तो कोरां
कलम रै हळ
कागद रै खेत
मन री फसलां
पण
आं खेतां
कद लागै फळ
आं माथै भंवै
आलोचना री लूआं
गुटां री त्रिजटा।