भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

काजर काय पे दइये कारे / ईसुरी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

काजर काय पे दइये कारे।
बारे बलम हमारे।
साँज भये ब्यारी की बैराँ
करें बिछोना न्यारे।
जब छुव जात अनी जोवन की
थर थर कँपत विचारे।
का काऊ खाँ खोर ‘ईसुरी’
फूटे करम हमारे।