भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कानाबाती कुर्र / बालकृष्ण गर्ग

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मेढक बोले टर्र,
बर्राती है बर्र ।

जूता बोले चर्र,
मोटर चलती घर्र ।

मम्मी सोतीं खर्र,
पापा जाते डर्र ।

चिड़िया उडती फुर्र,
कानाबाती कुर्र ।