भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

काना से घोरी चली मनमोहन काना परे हैं मिलान / बुन्देली

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

काना से घोरी चली मनमोहन काना परे हैं मिलान।
राजा राम की घोरी श्री किसन की घोरी।
मथुरा से घोरी चली मनमोहन सो गोकुल परे हैं मिलान।
राजा राम की घोरी श्री किसन की घोरी।
जो घेरी अत लड़ चली मनमोहन सो चढ़ ससुराले जायँ।
मोर मुकुट अत बनी मनमोहन घोरी सो टिपकी है लाल गुलाल।। राजा राम ...।।
चंदन खौरें अत बनी मनमोहन सो टिपकी है लाल गुलाब ।। राजा राम ...।।
नैनन सुरमा अत बनी कृस्ना सो भौंहन चढ़ी है कमान।। श्री किसन ...।।
मुख भर बिरियाँ सोहें मनमोहन घोरी सो ओठन रेचे हैं तमोल।। राजा राम ...।।
कानन कुण्डल सोहें मनमोहन घोरी सो झलकत श्याम कपोल।। राजा राम ...।।
कंठन कंठी अत बनी मनमोहन घोरी सो गोपन गुंजे हैं गुंजाव।। राजा राम ...।।
कौंचन चूरा अत बने मनमोहन घोरी सो पौंची हैं रतन जड़ाऊ।। राजा राम ...।।
नौउ नुगरियन छल्ला सोहै मनमोहन घोरी सो दाहिनी छिंगरिया छाप।
पाँवन तोड़ा अत बने मनमोहन सो चूड़ा नगर उज्जैन।। राजा राम ...।।
इड़ियन माहुर अत बनो मनमोहन घोरी सो मेंहदी लाल गुलाब।
केसरिया बागो अत बना मनमोहन घोरी सो पनरथ लाल गुलाल।
पीताम्बर धोती सोहै मनमोहन घोरी सो कस बटुआ की फेंट।। राजा राम ...।।
ऐसो सजो मेरो लाड़लो मनमोहन घोरी सो जैसो गोकुल में कान्ह।। राजा राम ...।।
कोट तरै होकै निकरौ लाड़लो मनमोहन सो धन धन करै लुगाई।। राजा राम ...।।
कौना सी मैया कोख धरे मनमोहन घोरी सो कौना बहनिया के वीर।
जसुदा सी मैया उर धरे मनमोहन घोरी सो सुभद्रा बहिनिया के वीर।
काना से घोरी चली मनमोहन सो काना परे हैं मिलान।
श्रीराम की घोरी श्री किसन की घोरी।