भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  रंगोली
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

कान्हा गगरिया मत फोड़ो / बुन्देली

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

कान्हा गगरिया मत फोड़ो
बन की बीच डगरिया में।...
जो कान्हा तुम्ळें भूख लगेगी...
भूख लगेगी कान्हा भूख लगेगी...
माखन रखिहो बगलिया में।...
जो कान्हा तुम्हें प्यास लगेगी।...
प्यास लगी कान्हा प्यास लगेगी।...
झाड़ी रखिहो बगलिया में। कान्हा।...
जो कान्हा तुम्हें तलब लगेगी।...
तलब लगेगी कान्हा, तलब लगेगी।...
बीड़ा रखिहो बगलिया में। कान्हा।...