भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  रंगोली
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

कान्ह हूँ सौं आन ही विधान करिबै कौं ब्रह्म / जगन्नाथदास ’रत्नाकर’

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कान्ह हूँ सौं आन ही विधान करिबे कौं ब्रह्म
मधुपुरियान की चपल कँखियाँ चहैं ।
कहैं रतनाकर हसैं कै कहौं रोवैं अब
गगन-अथाह-थाह लेन मखियाँ चहैं ॥
अगुन-सगुन-फंद-बन्द निरवारन कौं
धारन कौं न्याय की नुकीली नखियाँ चहैं ॥
मोर-पँखियाँ कौ मौर-वारौ चारुं चाहन कौ
ऊधौ अँखियाँ चहैं न मोर-पँखियाँ चहैं ॥64॥