भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कान हमारे अब न छूना / रमेश तैलंग

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अभी अभी कानून बना है।
कान खींचना यहाँ मना है।
कान खींच की सज़ा बहुत है।
अब न सोचना, मज़ा बहुत है।
इन्हें खींच जो लाल करेगा।
जुर्माना वह रोज भरेगा।
नहीं भरा तो होगा दूना।
कान हमारे अब न छूना।