भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

काफ़ी है मुहब्बत बदगुमानी ही काफ़ी है / मोहिनी सिंह

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

काफ़ी है मुहब्बत बदगुमानी ही काफ़ी है
बागी हो जाने को जवानी ही काफ़ी है

लाखों दिलों में भर दे जो जोश इंक़लाब का
तबियत से की गई इक कुर्बानी ही काफ़ी है

दफ़न हो जाते हैं शहरों के कदमो तले जंगल
इन्सां की इक नज़र पड़ जानी ही काफ़ी है

तेरा सताना ज़रूरी नहीं है मेरे सनम
मुझे रुलाने को ये दाग हुई निशानी ही काफ़ी है

तेल पे होती थी जंग मुल्कों में बरसों पहले
अब तो आग लगाने को पानी ही काफ़ी है