भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कामयाबी के नहीं हम ज़िम्मेदार / अमजद हैदराबादी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कामयाबी के नहीं हम ज़िम्मेदार।
काम की हद तक हमारा काम है॥
जब्र उस मुख़्तार पर क्यों कर करें?
अर्ज़ कर देना हमारा काम है॥

हुस्ने-सूरत को नहीं कहते है हुस्न।
हुस्न तो हुस्ने-अमल का नाम है॥
रह सके किस तरह ‘अमजद’ मुतमईन।
ज़िन्दगी खौ़फ़े-ख़ुदा का नाम है॥