भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कायदा / राजेश श्रीवास्तव

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

उतना ही आदर कीजिए
किसी व्यक्ति का
जितना हर वक्त, हर स्थिति में
हर व्यक्ति के सामने
आप निःसंकोच कर सकें।
अन्यथा, सार्वजनिक रूप से
चरण-स्पर्श आप कर नहीं सकते
और खोखली नमस्ते
वह पचा नहीं सकेगा
इस तरह, कोई भी
किसी का सम्मान बचा नहीं सकेगा।