भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

काया सूं बांथेड़ा कर मत / राजेन्द्र शर्मा 'मुसाफिर'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

काया सूं बांथेड़ा कर मत
थूं भीतर अंधारौ भर मत।

नीं बगसैला अब चींथ्योड़ा
धोखै सूं माणस नै चर मत।

जीवत माखी गिटग्यो बैरी
करियोड़ा कोल मुकर मत।

काळै मन रा पोत दिसै है
थूं सूकी मनवारां कर मत।

जीवण रौ सत जाण्यां सरसी
मौत जिनावर जैड़ी मर मत।

मून ‘मुसाफ़िर’ चेतौ कर ले
नाजोगां रै घर पग धर मत।