भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

काये कौ कोट काये जरा जरिया / बुन्देली

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

काये कौ कोट काये जरा जरिया।
सोने को कोट मोतिन जरा जरियो।
को भऔ दियला को भऔ बाती।
काना कौ अरग चुये सब राती
चन्द्रामल दियला दुलइया रानी बाती
सूरजमल दियला दुलइया रानी बाती।
रोहिणी बाई कौ अरग चुये दिन राती।
बीरन राजा दियला भौजी रानी बाती।
फुआ बाई को अरग चुयै सब राती।