भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कारे सबरे होत बिकारे / ईसुरी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कारे सबरे होत बिकारे,
जितने ई रंग बारे।
कारे नाँग सफाँ देखत के,
काटत प्रान निकारे।
कारे भमर रहत कमलन पै,
ले पराग गुंजारें।
कारे दगावाज हैं सजनी,
ई रंग से हम हारे।
ईसुर कारे खकल खात हैं,
जिहरन जात उतारे।