भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कार्यकर्ता / विजय चोरमारे / टीकम शेखावत

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कार्यकर्ता सुबह देरी से उठता है और सभी के मुकाबले
देर रात तक पढ़ता रहता है अकेला
लैम्प जलाकर

पीकर चाय
थाली में परोसा बिना शिकायत चुपचाप खाकर
कार्यकर्ता
निकल पड़ता है घर से बाहर
पार्टी के दफ़्तर में आता है,
अख़बार पढता है
चाय की ऑर्डर दे आता है
चाय पीता है
सहभागी होता है
राष्ट्रीय, अन्तर्राष्ट्रीय विषयों की चर्चा में
चर्चा सुनता है मन लगाकर
शोषणकर्ता और सरकार सभी की
उधेड़ता है बखिया !

जुलूस के पहले
बैनर रंगवाता है और उन्हें चढ़ाता है डण्डियों पर
मार्क्स, फूले, शाहू, आम्बेडकर, चार्वाक, बुद्ध, साने गुरूजी
सभी का जुलूस चलता है उसके भेजे में
जात, धर्म, दहेज़, अन्धश्रद्धा, निरक्षरता, ग़रीबी
बेरोज़गारी, महँगाई, सभी के ख़िलाफ़
लड़ता रहता है कार्यकर्ता
नारेबाज़ी करता हुआ
आवाज़ ठेठ उसकी नाभी की जड़ से निकलती है

ठण्ड, धूप, बारिश, तूफ़ान
कभी भी नहीं होता उसके पास आराम
भरी दोपहरी साईकिल पर पैदल मारता
अखबारो को खबर पहुँचाता है
सभा के लिए स्टेज सजाता है
साउण्ड-सिस्टम चैक करता है,
कुर्सियाँ लगाता है
नेता के स्टेज पर पहुँचने पर
नीचे सबसे आगे जाकर बैठता है
सुनते-सुनते,
कार्यकर्ता भाषण देने का देखता है स्वप्न

मुम्बई, दिल्ली, वाशिंगटन तक सारी
जानकारी जुटाकर रखता है कार्यकर्ता
काम करते, सोच-विचारते, चर्चा करते-करते
रोज़ थक जाता है कार्यकर्ता
थकान मिटाने
कभी-कभार उतार लेता है
एक-दो पेग,

देर रात थकाहारा
घर पहुँचता है कार्यकर्ता
घर पर सभी होते हैं सोए हुए
बस माँ जाग रही होती है
आहट लेते
लगाया हुआ खाना चुपके से खाता है कार्यकर्ता
माँ बतियाते रहती है यहाँ-वहाँ की
बहन के लिए आया रिश्ता
दहेज़ देने के विषय में
सावन में रह गई सत्यनारायण की कथा के बारे में
चाची के शरीर में आया हुआ साया
माघ महीने के गुरूवार
नवरात्र के उपवास
रोज़ करती है अलग-अलग बातें
कहती है बहुत कुछ

जल्द ही कामधन्धा ढूँढो
शादी के लिए ज़रूरी है
अब मुझसे नहीं निभता,
ये रोज़-रोज़

थाली में हाथ धोकर
डकार देता है कार्यकर्ता
पूरा घर सो रहा होता है
जलता रहता है
देर तक कार्यकर्ता का टेबल-लेम्प
दुनिया बदलने के सपने देखने की ख़ातिर
सो जाता है
वह
माँ की बातें याद करते करते

अपनी लड़ाई दुनिया बदलने को लेकर है,
घर बदलने को लेकर नहीं
ऐसा ख़ुद ही को समझाकर
सुबह फिर से
साईकिल पर पेडल मारता है कार्यकर्ता।

मूल मराठी से अनुवाद — टीकम शेखावत