भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

काला बहल जुड़ाइयां मैं / हरियाणवी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

काला बहल जुड़ाइयां मैं थलस तलै नै आइयां
क्यों कर जीऊं काले कै ब्याह दइयां
काला घर मैं बड़ियां ये कड़ी करंजै पड़ियां
क्यों कर जीऊं काले कै ब्याह दइयां
भूरा बहल जुड़ाइयां मैं झट दै बेहल मैं आइयां
क्यों कर जीऊं काले कै ब्याह दइयां
भूरा घर मैं बड़ियां सत्तर दीवे बलियां
काले के दो जाये जणों भूंड गिरड़ ते आये
क्यों कर जीऊं काले कै ब्याह दइयां
भूरे कै दो जाये जणो चांद सूरज दो आये
क्यों कर जीऊं काले कै ब्याह दइयां