भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कालीबंगा: कुछ चित्र-12 / ओम पुरोहित ‘कागद’

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ये चार ढेर
मिट्टी के
ढेर के बीचोबीच
नर कंकाल।

ढेर नहीं
चारपाई के पाये हैं
इस चारपाई पर
सो रहा था
कोई बटाउ
बाट जोहता
मनुहार की थाली की
मनुहार के हाथों से पहले

उतरी गर्द आकाश से
जो उठाई है
आज आपने
अपने हाथों
मगर सहेजे कौन?


राजस्थानी से अनुवाद : मदन गोपाल लढ़ा