भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कालीबंगा: कुछ चित्र-15 / ओम पुरोहित ‘कागद’

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सब थे
उस घड़ी
जब
बरसी थी
आकाश से
अथाह मिट्टी

सब हो गए जड़
मिल गए
बनते थेहड़ में

आज फ़िर
अपने ही वशंजो को
खोद निकाला है
कस्सी
खुरपी
बट्ठल-तगारी ने !
 

राजस्थानी से अनुवाद : मदन गोपाल लढ़ा