भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कालीबंगा: कुछ चित्र-4 / ओम पुरोहित ‘कागद’

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

न जाने
किस दिशा से
उतरा सन्नाटा
और पसरता गया
थिरकते शहर में

बताए कौन
थेहड़ में
मौन

किसने किसे
क्या कहा - बताया
अंतिम बार
जब बिछ रही थी
कालीबंगा में
रेत की जाजम।


राजस्थानी से अनुवाद : मदन गोपाल लढ़ा