भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

काल थे खुद / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आ गूंग थांरी
फोड़ा घालसी
कदैई थांनै ई

मिनख नै मार-मार
मोदीजो भलांई मन में
पण
काल थे खुद
सोध-सोध हार जावोला
लाधैला नीं
मिनख रो जायो
कठैई थांनै !

थारै च्यारूंमेर
उछाळा मारै जिको हरख रो समंदर
देखतां-ई-देखतां
सूक जावैला आ कोनी मानो थे आज
पण परतख देखतां
काल थे खुद झुरोला
आं ई मिनखां खातर !