भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

काळ बरस रौ बारामासौ (बैसाख) / रेंवतदान चारण

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बैसाखां तावड़ ब्रिथा काळ जद कटकाय
मारग चलतौ मांनखौ भव भव में भटकाय

माटी सूं सनमुख हुवै कोपै सूरज क्रुद्ध
झाळां सूं जगती जमीं जांणै छिड़ग्यौ जुद्ध

तावड़ तड़तड़तोह बरसातौ अगन भळैह
मुरझावण धर मुरधरा काळ ज करै कळैह

सूरज ने समझावती धोरां री धरतीह
कह दै बोली काळ ने मां सूं ना उलझीह