भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

काळ / श्याम महर्षि

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

धरती इण बरस ई
सूख‘र कांटो
हुयगी

मझ दोपारां
सोंवतो जाय रैयो
धान
नागौरणा री लपटां सूं,

पंख-पंखेरू
आंवतै काळ सूं
डरपीज‘र
मींचली है आंख

आथूणी अर उतरादी
रोही रा
भूखा सांसर
भेळ दिया खेत
आखै गांव रा,
इण बरस रो
चौमासो बिना विसांयत रै
हुयग्यो है व्हीर
रूस्सैड़ो सो,

भागीरथियै रै खेत री
दो मण बाजरी
करलिया पग
अर सेठ भुगानै रै
कोठै मांय जावणै नैं
उत्तावळ करै।