भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

काश ये मुमकिन हो / निधि सक्सेना

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

क्या मुमकिन है
कि मैं मुझसे छिटक जाऊँ
तुम तुमसे...

न पैरहन में सिलवटों की फ़िक्र हो
न लम्हों के दायरों का होश रहे...

न गलियारों में कोई साये हों
न मंजिलों की तलाश रहे...

बस तुम रहो और मैं रहूँ
बेसबब और
बेशुमार...