भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कास कुसुमों से मही औ"... / कालिदास

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुखपृष्ठ  » रचनाकारों की सूची  » रचनाकार: कालिदास  » संग्रह: ऋतुसंहार‍
»  कास कुसुमों से मही औ"...
प्रिये ! आई शरद लो वर!

कास कुसुमों से मही औ" चन्द्र किरणों से रजनी को

हंस से सरिता-सलिल औ" कुमुद से सरवर-सुरम को,

कुमुद भार विनीवसप्तच्छदों से उन वनान्तों को

शुक्ल करती, प्रतिदिशा में दीप्ति फैला अमल शुचितर,

प्रिये ! आई शरद लो वर!