भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  रंगोली
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

काहे का कारण सखी हो मेहुलो सो वरस्यो / निमाड़ी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

काहे का कारण सखी हो, मेहुलो सो वरस्यो,
काहे का कारण दूब लहलहे।
धरती का कारण सखीबाई, मेहुलो सो बरस्यो,
गउआ का कारण दूब लहलहे।
काहे का कारण सखि हे, अम्बो सो मौरियो,
काहे का कारण केरी लूम रही?
सोगीटा का कारण सखिबाई, अम्बो सो मौरियो,
कोयल का भाग कैरी लूम रही।
काहे का कारण सखि हो, बाग सो फूल्यो,
काहे का कारण कलियाँ खिल रहीं।
माली का कारण सखिबाई, बाग सो फूल्यो,
देव का कारण कलियाँ खिल रहीं।
काहे का कारण सखिबाई, चुड़िलो सो पेर्यो,
काहे कारण चूनर गहगहे?
स्वामी का भाग सखिबाई, चुड़िलो सो पेर्यो,
इराजी का कारण चूनर गहगहे।
काहे का कारण सखि हो पुत्र जलमियो,
काहे का कारण दिहे अवतारिया जी?
बहुवर भाग सखि हो, पुत्र जी जलमियो,
साजन का भाग दिहे अवतारिया जी।