भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

का है जौ भोपाल समझ लो / महेश कटारे सुगम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

का है जौ भोपाल समझ लो ।
जी कौ है जंजाल समझ लो ।

बैठे हैं ऊँचे हौदन पै,
बड़े-बड़े घड़याल समझ लो ।

गाँवन की छाती पै बैठौ,
खेंचत है जौ खाल समझ लो ।

रोज़ मरत हैं कैउ भूक सें,
खुद खा रऔ है माल समझ लो ।

खुद मौटौ हो रऔ जनता खौं,
बना रऔ कंगाल समझ लो ।

सबई जिला ई की पूजा खौं,
लयें लयें फिर रये थाल समझ लो ।

जित्ते बड़े-बड़े अपराधी,
सबकौ रखत खयाल समझ लो ।

सालन सें कोरौ पारौ बस,
खूब बजा रऔ गाल समझ लो ।

जेई चलत रऔ सुगम अगर तौ,
हुइयै भौत बवाल समझ लो ।